पीएम मोदी के 15 लाख रुपए देने के वादे पर केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने किया बचाव

मुंबई : 2014 में भाजपा के चुनावी वादों से जुड़ा केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी का एक बयान विवादों में आ गया। गडकरी ने एक मराठी कॉमेडी शो के दौरान भाजपा के वादों के बारे में पूछे जाने पर कहा- हमें भरोसा था कि हम सत्ता में नहीं आएंगे। इसलिए हम बड़े वादे करते गए। इसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गडकरी के बयान का वीडियो क्लिप ट्वीट किया। इस पर गडकरी ने सफाई में कहा कि उन्होंने मोदी सरकार या 15 लाख रुपए का जिक्र नहीं किया था। मीडिया ने बयान को गलत तरीके से पेश किया। गडकरी को नाना पाटेकर के साथ एक मराठी शो में बातचीत के लिए बुलाया गया था। सवाल-जवाब के दौरान गडकरी ने कहा, ”हम सभी का दृढ़ विश्वास और प्रखर आत्मविश्वास था कि हम जीवन में कभी सत्ता में आएंगे ही नहीं। इसलिए हमारे आसपास के लोग कहते थे कि आप तो बोलिए, वादे कीजिए, क्या बिगड़ेगा? आप पर कौन-सी जवाबदारी आने वाली है? लेकिन अब जवाबदारी आ गई। अब खबरों में आता है कि गडकरी क्या बोले थे, फडणवीस क्या बोले थे। तो अब आगे क्या? हम हंसते हैं और आगे बढ़ जाते हैं।”गडकरी ने कहा, मुझसे चुनावी घोषणाओं पर सवाल पूछा गया। महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के दौरान देवेंद्र फडणवीस और गोपीनाथ मुंडे ने मुझसे कहा था कि हम राज्य में टोल खत्म करना चाहते हैं। तब मैंने उनसे कहा कि आप घोषण पत्र में ऐसे वादे मत करिए, जो पूरे न किए जा सकें। जब विपक्ष में रहते हैं तो बहुत से वादे करते हैं। एक अखबार ने इसे नरेंद्र मोदी, भाजपा और 15 लाख रुपए के वादे से जोड़कर छाप दिया।