युग प्रदेश,संतनगर
प्रतिवर्ष की तरह इस वर्ष भी भगवान झूलेलाल जी का चैतीचांद पर्व बड़े ही धूमधाम से मनाया जाएगा। जिसकी तैयारियां शुरू हो गई है। प्रमुख रूप से उपनगर की प्रमुख सामाजिक संस्था एवं शैक्षणिक संस्था सिंधु समाज द्वारा इस वर्ष ५८ वां चैतीचांद महोत्सव को भव्य रूप दिया जा रहा है सिंधु समाज के उपाध्यक्ष हरीश मेहरचंदानी, महासचिव भरत आसवानी ने बताया कि सिंधी समाज के इष्टदेव भगवान झूलेलाल का अवतरण दिवस चैतीचांद १९ मार्च दिन सोमवार को मनाया जाएगा। इस अवसर पर भव्य शोभा यात्रा को विशाल रूप दिया जाएगा। शोभा यात्रा का मुख्य आकर्षण साधु संतो की झांकियों के साथ सिंधु संस्कृति के प्रतीक अनेक झांकियां सम्मिलित कर चैतीचांद को यादगार बनाया जाएगा। चैतीचांद के दिन साधु वासवानी स्कूल ग्राउंड में रात्रि को भव्य सिंधी सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया है जिसमें मुंबई के सुप्रसिद्ध राकस्टर नील तलरेजा अपने ख्याति प्राप्त कलाकारों के साथ सिंधु संस्कृति के प्रतीक लोकगीत, नृत्य एवं भगवान झूलेलाल के भजनों की बरखा के अतिरिक्त देशभक्ति गीतों का समावेश कर समारोह का यादगार के रूप में मनाया जाएगा। सिंधु समाज के अध्यक्ष अटलराम पमनानी के अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई। जिसमें पुरूषोत्तम हरचंदानी, दयाल दौलतानी, प्रकाश देवनानी, सुरेश तलरेजा, मोहनलाल चंदनानी, अटल मेंघानी, प्रभु मंगलानी, कमल खिलवानी, आदि पदाधिकारी उपस्थित थे। सभी पदाधिकारियों ने सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया कि पूज्य सिंधी पंचायत के अध्यक्ष साबू रीझवानी को सिंधु समाज संस्था का मुख्य सलाहकार मनोनीत किया गया। वहीं अनुभवी कार्यकर्ता नारायणदास चोटरानी, नरेश तोलानी, चंद्रप्रकाश ईसरानी, दिलीप मंगतानी, राजा दादलानी, नारायणदास तोलानी, को संरक्षक एवं लोकूमल आसवानी, डीके नेहचलानी, कन्हैयालाल वीधानी, मनोहर वीधानी, राजेश बेलानी, मोहनलाल हरचंदानी, नरेश गिदवानी को सलाहकार के अतिरिक्त इस बार जगदीश छावानी एवं वासदेव वासवानी को विधि सलाहकार मनोनीत किया गया है।