लंदन: पांच बार की चैंपियन वीनस विलियम्स ने सेंटर कोर्ट पर अपने अनुभव के बूते जोहाना कोंटा को सीधे सेट में पराजित कर विंबलडन टेनिस ग्रैंडस्लैम महिला एकल वर्ग के फाइनल में प्रवेश किया, जहां उनकी भिंड़त पिछले साल की फ्रेंच ओपन चैम्पियन गार्बाइन मुगुरूजा से होगी. अमेरिका की 10वीं वरीयता प्राप्‍त वीनस ने सेमीफाइनल में कोंटा को एक घंटे 13 मिनट में 6-4, 6-2 से शिकस्त दी जिससे ब्रिटेन की इस खिलाड़ी की विम्बलडन के फाइनल में पहुंचने की उम्मीद टूट गई. छठी वरीय कोंटा 1977 के बाद विंबलडन एकल फाइनल में पहुंचने वाली पहली ब्रिटिश महिला बनने की उम्मीद लगाए थीं. हालांकि यह 26 वर्षीय अगली रैंकिंग में पहली बार शीर्ष पांच में पहुंच जाएंगी.

14वीं वरीय मुगुरूजा ने गैर वरीय स्लोवाकिया की मैगडेलेना राबारिकोवा को 64 मिनट में 6-1, 6-1 से मात देकर अपने दूसरे विंबलडन फाइनल में प्रवेश किया. वह 2015 में सेरेना विलियम्स से हारने के बाद उप विजेता रही थीं लेकिन 2016 फ्रेंच ओपन में उन्होंने सेरेना को हरा दिया था.

वहीं वीनस ग्रैंडस्लैम के फाइनल में पहुंचने वाली सबसे उम्रदराज खिलाड़ी हैं. इससे पहले मार्टिना नवरातिलोवा 1994 विंबलडन में उप विजेता रही थीं. यह वीनस का नौवां फाइनल है, उन्होंने 2000 में अपनी पहली विंबलडन ट्रॉफी जीती थी. 20वीं बार विंबलडन में खेल रहीं वीनस ने अंतिम बार 2008 में सेंटर कोर्ट में खिताब जीता था.