नए सत्र में प्रवेश लेने वाली नवागत छात्राओं का उन्मुखीकरण कार्यक्रम का हुआ आयोजन

युग प्रदेश,संतनगर :- संत हिरदाराम कन्या महाविद्यालय में नयें सत्र में प्रवेश लेने वाली नवागत छात्राओं का उन्मुखीकरण कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर पर श्रद्धेय सिद्धभाऊ जी, महाविद्यालय के निदेशक हीरो ज्ञानचंदानी, डॉ. चरनजीत कौर, शिक्षिकाएं एवं छात्राएं उपस्थित थी। छात्राओं को संबोधित करते हुए श्रद्धेय सिद्धभाऊ जी ने अपने आषीर्वचन में कहा कि शिक्षक दीपक की भांति होता है जो स्वयं दीपक की तरह जलकर समाज को रोशनी देता है। छात्राओं को भी दीपकसे शिक्षा लेकर शिक्षक के उद्देष्यों को समाज में फलीभूत करना है। उन्होंने छात्राओं को शैक्षिक , सामाजिक एवं विषेषकर व्यावहारिक ज्ञान को परिष्कृत करने पर विशेष जोर देते हुए कहा कि , छात्राएं समय के महत्व को पहचानें, एवं जीवन के विकास में वो सफलता के किसी भी पद पर हों अपने स्त्रीत्व को बनायें रखें। उन्हें यह स्मरण रहे कि घर में वो एक माँ हैं, एक पत्नी हैं और एक बहु भी हैं। अपने जीवन को मर्यादित ढंग से जियें। जिसमें स्वतंत्रता तो हो परन्तु स्वच्छंदता न हो। छात्राओं को चाहिये कि वे अपने माता-पिता एंव गुरू के प्रति श्रद्धा, विश्वास एवं समर्पण की भावना रखे; क्योंकि ये तीनो हमारे हित में सोचते है। निर्विकारी जीवन एवं एकाग्रचित मन हासिल करना है तो स्वामी विवेकानंद को अपना आदर्ष बनायें। अपनी दिनचर्या में ध्यान को अवष्य शामिल करें क्योंकि ध्यान करने से शरीर के साथ-साथ मस्तिष्क में भीऊ र्जा का विस्फोट होता है, जिससे एकाग्रता बढ़ती है। उन्होंने छात्राओं को एक लक्ष्य बनाने और उसपर अपनी सारी ऊर्जा लगा देने की हिदायत देते हुए कहा कि भगवान की कृपा के प्रति सदैव कृतज्ञ रहें कि उसने अच्छा स्वास्थ्य एवं शिक्षा प्रदान की। बरकतउल्लाह विश्वविद्यालय में 49वें स्थापना दिवस के अवसर पर रासेयो की छात्राओं के द्वारा प्रस्तुत कार्यक्रम में प्रदेश की राज्यपाल के हाथों पुरस्कृत छात्राओं की उपलब्धी पर हर्ष व्यक्त करते हुए बधाई दी।