रोजाना साफ करती हैं और रख देती है

रायपुर,एजेंसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो चप्पल रत्तीबाई को पहनाई, वह अब रत्तीबाई के लिए सहेज कर रखने वाली धरोहर बन गई है। बुजुर्ग रत्तीबाई घर से खेत और खेत से जंगल तक नंगे पांव ही घूमती हैं, चप्पल को तो उन्होंने अपने झोपड़ेनुमा घर के इकलौते कमरे में धान के बोरे में सहेजकर रख दिया है। इतना ही नहीं, कमरे का ताला बंद…और चाबी रत्तीबाई के गले में। प्रधानमंत्री के हाथों मिली चप्पल को रत्तीबाई बेहद खास मौकों पर ही निकालती हैं, निहारती हैं, अपने तरीके से पोंछती हैं और इसके बाद उसे यूं पहनती हैं मानों पांव में चप्पल नहीं, किसी बादशाह ने सिर पर ताज धारण किया हो।

घर में सबसे कीमती चीज चप्पल

ब्लॉक मुख्यालय भैरमगड़ से सटे बंडपाल गांव में रत्तीबाई का भरा पूरा परिवार है, लेकिन सम्पति के नाम पर कुछ भी नहीं। मिट्टी के घर के बाहर महुआ सुखाती रत्तीबाई ने गले में सूत की डोरी से बंधी कमरे की चाबी दिखाई। रत्ती के पुत्र बारीचंद समरथ ने बताया कि मां दिन भर नंगे पांव ही रहती हैं। किसी खास आयोजन में जाना हो तो ही चप्पल पहनती हैं। घर में चोरी होने लायक कुछ नहीं है लेकिन चप्पल जरूर बेशकीमती हो गई है। मां उसकी दिन रात रखवाली करती हैं। अब रत्तीबाई अपने गांव ही नहीं, आसपास के पूरे इलाके में खास शख्सियत बन चुकी हैं।