महाविद्यालय में पूर्व छात्रा सम्मेलन का हुआ आयोजन

युग प्रदेश,संतनगर : संत हिरदाराम कन्या महाविद्यालय में पूर्व छात्रा सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस आयोजन में संस्था के अध्यक्ष परम श्रद्वेय सिद्ध भाऊजी, ए.सी. साधवानी, हीरो ज्ञानचंदानी, प्राचार्य डॉ. चरनजीत कौर, प्राध्यापिकाएॅं एवं बड़ी संख्या में पूर्व छात्राएॅं उपस्थित थी। प्राचार्य ने संस्था का परिचय देते हुए कहा कि वर्ष 2006 से यह महाविद्यालय छात्राओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान कर रहा हैं। हम छात्राओं को सैद्वांतिक शिक्षा के साथ व्यवहारिक शिक्षा प्रदान कर उन्हें श्रेष्ठ मानव बनाने का प्रयास करते है। हम छात्राओं के संपूर्ण व्यक्ति त्व विकास के साथ उन्हें नैतिक शिक्षा भी प्रदान की जाती है जिससे की वे विकासषील देष को विकसित देश बनाने में अपना योगदान दे सके ।

संस्था के अध्यक्ष परम श्रद्वेय सिद्धभाऊ जी ने कहा कि आज मैं इन पूर्व छात्राओं के माध्यम से संतजी के स्वप्न को पूर्ण होते हुए देख रहा हॅू। समस्त छात्राओं को देखकर मैं गौरांवित हॅू। हमारे जीवन में कृतज्ञता का भाव होना अति आवष्यक है, अपने बड़ों की बातों को शांति व धैर्य से सुनकर जीवन में आत्मसात करे। समय की पाबंदी जीवन में आगे बढऩे के लिये अति आवष्यक है, अत: समय प्रबध्ंन सीखे। हमारे जीवन में जो भी सहज और सुलभ प्राप्त होती है, हम उसकी कद्र कम करते है, यह कृतघ्नता है। उन्होंने छात्राओं से कहा कि यह महाविद्यालय परिवार आपका मायका है एवं प्रतिवर्ष आप पूर्व छात्रा सम्मेलन में आमंत्रित रहेगी। पूर्व छात्रा सम्मेलन में आयोजित गरबे के आयोजन पर उन्होंने कहा कि यह आदिशक्ति मॉ की आराधना का समय है, अपने हृदय के अंतरमन भाव से गरबा कर मॉं का आशीर्वाद प्राप्त करे जिससे की आपकी हर मनोकामना पूर्ण हो। आप जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सफल रहे यही मेरी मनोकामना है। महाविद्यालय की पूर्व छात्राओं कु. पूजा तेजवानी , कु. नबाहत हसन, डॉ. अर्चना गुप्ता, कु. भावना जगवानी, कु. षिवानी सोनी, कु. लता असनानी , कु. डिम्पल ज्ञानचंदानी, कु. शैफालिका शर्मा, कु. अफसाना खातून, कु. सुमैया ओवेज, कु. रूचि शर्मा, कु. दिव्या मूलानी, कु. खुषबू नागले सहित अन्य पूर्व छात्राओं ने अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि यह हमारा दूसरा घर है, महाविद्यालय में पुन: आना घर वापसी जैसा है।