नगर प्रतिनिधि,संतनगर: उपनगर में पिछले काफी समय से बिजली व पानी के बीच आंख मिचोली का खेल चल रहा है जो रहवासियों के लिए मुसीबत बना हुआ है ४८ घंटो के दौरान एक घंटे ही शहरवासियों को बेमुश्किल पानी मिल पाता है और जिस समय पानी की सह्रश्वलाई होती है उसी दौरान ही बिजली झटका देती है पिछले कई दिनों से ऐसा हो रहा है जिस दिन पानी का समय होता है उस दौरान बिजली गुल हो जाती है ऐसे में लोगों का पानी से भी वंचित रहना पड़ता है दो दिन में एक दिन होने वाली पानी की सह्रश्वलाई का जिस दिन समय होता है उस दौरान महिलाएं बेसब्र्री से पानी आने का इंतजार क रती है और उसी समय अगर बिजली चली जायें तो पानी भी नसीब नहीं हो पाता है वर्तमान समय में भीषण गर्मी का दौर चल रहा है ऐसे में पानी की मांग भी बढ़ जाती है ऐसे में अगर पर्याह्रश्वत पानी नहीं मिल पाता है तो महिलाएं मजबूर होकर इधर उधर भटक ती रहती है गर्मी शुरू होते ही बिजली की समस्या भी शुरू हो गई है आए दिन बिजली जाना आम बात हो गई है जो लोगों के लिए परेशानी साबित हो रही है। शनिवार को भी सुबह से रात तक बिजली आने जाने का सिलसिला चलता रहा जो देर रात तक जारी था। गर्मी का पारा जहां ४३ डिग्री तक पहुंच गया है ऐसे में अगर बिजली पानी नहीं मिले तो क्या होगा इसका अंदाजा आप स्वंय ही लगा सक ते है।

मोटर लगाना चोरी पर मजबूरी भी

इस समय लोगों द्वारा पेयजल सह्रश्वलाई के दौरान बड़ी बड़ी पानी की मोटरों का उपयोग किया जाता है जो एक प्रकार से चोरी है पर यह चोरी अब मजबूरी बन गया है क्योंकि पानी कम प्रेशर से घरों तक पहुंच रहा है जिस कारण लोगों ने नल कनेक्शन से ही सीधे मोटर जोड़ दी है अगर ऐसे में बिजली गुल हो जाती है तो मोटर कैसे चल पाएगी। क्योंकि बिना मीटर के नलों से एक बून्द भी पानी नहीं आ रहा है अधिकांश संख्या में लोग मोटर का उपयोग कर रहे है सीधे लाइन में मोटर लगाना चोरी है पर यह अब लोगों की मजबूरी बन गया है।