किसानों की कर्जमाफी पर हंगामे के आसार

भोपाल : मध्य प्रदेश विधानसभा का बजट सत्र 18 फरवरी से शुरू हो रहा है। सोमवार को वित्तमंत्री तरुण भनोत चार महीने के लिए अंतरिम बजट पेश करेंगे। डेढ़ महीने बाद लोकसभा चुनाव को देखते हुए बजट में आम जनता को राहत देने घोषणा वित्त मंत्री कर सकते हैं। सत्र 21 फरवरी तक चलेगा। सत्र के हंगामेदार होने के आसार है। विपक्ष सरकार को किसानों के कर्जमाफी और बिगड़ती कानून व्यवस्था पर घेरेगा। चार दिन के इस सत्र के लिए विधायकों ने 727 प्रश्न विधानसभा सचिवालय को भेजे हैं। बताया जा रहा है कि बजट सत्र में 89 हजार करोड़ रुपए का हो सकता है लेखानुदान हो सकता है। विधानसभा में लाए जाने वाले करीब 70 हजार करोड़ के लेखानुदान और थर्ड सह्रश्वलीमेंट्री बजट की राशि 18 हजार करोड़ रुपए को मिलालें तो कुल 89439 हजार करोड़ के वोट एन अकाउंट को मंजूरी दे दी गई है। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि कमलनाथ सरकार का बजट प्रदेश की आम जनता को राहत देने वाला होगा।

शराब होगी मंहगी :

सरकार जय किसान ऋण माफी योजना के बाद किसानों को रियल टाइम वॉलेट देने का ऐलान भी कर सकती है। किसानों को प्रति एकड़ फसल के हिसाब से लिमिट मिल सकती हैं, ताकि किसान पैसे ना होने पर खाद बीज वॉलेट के जरिए खरीद सकें। उद्योगों को बढ़ावा देने नगरीय निकायों व उद्योग विभाग द्वारा अलग-अलग लिए जाने वाले प्रॉपर्टी टैक्स में सरकार राहत दे सकती है, वहीं राजस्व बढ़ाने के लिए सरकार शराब के साथ विलासिता की वस्तुओं पर टैक्स को बढ़ा सकती है। सरकार चालू वित्तीय वर्ष के लिए तृतीय अनुपूरक बजट भी प्रस्तुत कर सकती है।

कांग्रेस :

कांग्रेस विधायक दल की मुख्यमंत्री निवास पर होने वाली बैठक में मुख्यमंत्री कमलनाथ मंत्रियों और विधायकों को विपक्ष के हमले से निपटने के टिह्रश्वस दिए। सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री ने मंत्रियों से सदन में पूरी तैयारी के साथ आने कहा है।