नगर प्रतिनिधि,संतनगर
उपनगर में प्रस्तावित मॉडल रोड के लिए चंचल रोड पर की गई अतिक्रमण की कार्रवाई के बाद कई व्यापारी बेसहारा हो गए है कार्रवाई को बीते २७ दिन हो गए है जस के तस बने हुए है तोड़ फोड़ के बाद व्यापारियों ने मार्ग की चौड़ाई कम करने की गुहार विधायक से लगाई थी। जिसके बाद मार्ग की चौड़ाई १३ मीटर या १३.५ मीटर करने की बात कही गई पर इस पर अभी तक कोई फैंसला अभी तक नहीं हो पाया है मॉडल रोड की चौड़ाई का फैंसला नहीं होने से व्यापारियों में निराशा छाई हुई है व्यापारीगण सुबह मार्केट में इस उम्मीद से आते है कि शायद आज कुछ घोषणा होगी पर ऐसा नहीं होने से रात्रि को निराश होकर वापस लौट जाते है व्यापारी हताश हो चुके है कहीं से भी उन्हें रास्ता नजर नहीं आ रहा है सोमवार को व्यापारियों का एकदल भोपाल की चौपाल में महापौर से मिलने पहुंचा था पर यहंा भी उन्हें निराशा ही हाथ लगी। चौपाल में भी व्यापारियों की मुलाकात महापौर आलोक शर्मा से नहीं हो पाई और वो मायूस होकर वापस लौट आयें। बाजार में २७ दिनों से दोनों तरफ मलबा ही मलबा फैला हुआ है जिसे देखकर व्यापारियों की आंखे भी नम हो रही है कई दुकानें जिनका अस्तित्व ही मिट गया है वो लोग टेंट व टेबिल लगाकर व्यवसाय कर रहे है यह आखिर कितने दिन तक चलता रहेगा। दो मीटर की आस में कई दिन बीत गए है।
दुकानों में लगायें जा रहे शटर
मार्ग की चौड़ाई तय नहीं होने से निराश व्यवसाई मजबूर होकर जितना दुकान का हिस्सा टुटा था वहीं पर ही शटर लगवा रहे है साथ ही रिपेयरिंग का काम करवा रहे है ऐसे में अगर फिर तोड़ फोड़ होती है तो फिर नुकसान उठाना पड़ सकता है मजबूर हो चुके व्यापारी क्या करें उन्हें भी समझ नहीं आ रहा है वहीं दूसरी तरफ ३० से अधिक दुकानें जो पूरी तरह ध्वस्त हुई है वो व्यवसाई भी बेरोजगार हो गए है उनका भी अभी तक कुछ नहीं हो पाया है।
सेंट्रल पंचायत ने महापौर को लिखा पत्र
भोपाल की सिंधी सेंट्रल पंचायत ने महापौर आलोक शर्मा से मुलाकात नहीं होने के चलते उन्हें पत्र लिखा है और शीघ्र से शीघ्र चंचल मार्ग के व्यापारियों का समाधान करने की मांग की है अन्यथा पंचायत कोई अप्रिय निर्णय लेकर आंदोलन करेंगे। पंचायत ने पत्र के माध्यम से ५ सूत्रीयें मांग की है जिसमें मार्ग की चौड़ाई १२ मीटर कर राहत दी जायें, इस मार्ग को नौ व्हीकल जोन बनाया जायें। २८ दुकानों का निर्माण, जिनकी दुकानें मार्ग निर्माण में जाती है उन्हें उपयुक्त स्थान, विस्थापितों को उचित मुआवजा, नो व्हीकल जोन के लिए शीघ्र उपयुक्त पार्किंग स्थल का निर्माण कराया जायें एक माह होने को है और व्यापारी रातभर सडक़ों पर जाग रहे है।