• गुरुवार रात 10 बजे फिर बुलाई विधायकों की बैठक, देर रात में हुआ फैसला

  • भोपाल के पीसीसी में भारी हंगामा, जयपुर में आगजनी

युग प्रदेश, भोपाल : कांग्रेस की सरकार मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में बन रही है। लेकिन, मतगणना होने के दो दिन बाद भी कांग्रेस अपने मुख्यमंत्रियों के नामों पर फैसला नहीं ले पाई है। आज दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने तीन बैठकें की, लेकिन नतीजा नहीं निकला। इसके बाद मध्यप्रदेश के लिए कमलनाथ का नाम फाइनल किया गया। इस बीच भोपाल में ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थकों ने जमकर नारेबाजी की और उनको सीएम बनाने की मांग की। बाद में देर रात सिंधिया और कमलनाथ भोपाल आए इसके बाद विधायक दल की बैठक हुई जिसमें देर रात कमलनाथ को विधायक दल का नेता चुना गया।

मध्यप्रदेश में ऐसे सुलझा विवाद..

पहले ऐसा तय माना जा रहा था कि प्रदेश के अगले मुख्यमंत्री कमलनाथ ही होंगे। क्योंकि, वे ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मिलने गये थे। वे ही राज्यपाल के पास पत्र लेकर गये थे। इसलिए उनकी ताजपोशी तय मानी जा रही थी। लेकिन, इसके बाद परिस्थिति बदली ओर अचानक ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम उछलकर सामने आया। इसके बाद दिल्ली में राहुल गांधी ने बैठक बुलाई और कमलनाथ के नाम पर सहमति बनी। इस बीच तमाम कांग्रेस कार्यकर्ता प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पीसीसी के बाहर डेरा जमाये हुए थे। गौरतलब है कि कमलनाथ छिंदवाड़ा से सांसद हैं केंद्रीय मंत्री भी रहे हैं और गांधी परिवार के बहुत ही करीब हैं।