जूस पीने के बजाय फल खाने की आदत डाले

अगर आपको लगता है कि जूस पीने से काफी फायदे होते हैं, तो शायद आप गलत हैं। कुछ वजहे हैं जिनके कारण जूस पीना सेहत के लिए सही नहीं है। कुछ ऐसे फल हैं, जैसे कि सेब और अंगूर जिन्हें डायबीटीज़ में फायदेमंद माना जाता है, लेकिन अगर इन्हीं चीज़ों को जूस बनाकर पीया जाए, तो असर उल्टा होगा। जूस में कैलरी ज्यादा मात्रा में होती है। साथ ही उसमें कॉन्सनट्रेटिड शुगर भी काफी होता है। साथ ही जूस में कम फाइबर होता है, जिसकी वजह से आपको जूस पीते ही तुरंत पेट भरा हुआ महसूस होने लगता है। चूंकि एक फल के मुकाबले उसका जूस ज़्यादा जल्दी कंज्यूम कर लिया जाता है इसलिए उससे कार्बोहाइड्रेट इन्टेक भी काफी ज़्यादा होता है।

जूस पीने से ब्लड शुगर लेवल भी प्रभावित होता है और डायबीटीज़ जल्दी असर करती है। इसके अलावा सिरदर्द, मूड स्विंग्स जैसी कई और परेशानियां आपको घेर लेती हैं। इसलिए जूस पीने से सावधान रहें। इसे अपनी ज़रूरत न बनाएं। हां कभी- कभी इच्छा हुई तो पी सकते हैं। हालांकि कुछ लोग इसके हेल्थ बेनिफिट्स के आगे इसे नजऱअंदाज़ कर देंगे। मोटापे के अलावा जूस पीने से इम्यून सिस्टम भी कमज़ोर हो जाता है और किसी भी बीमारी से लडऩे की क्षमता भी कम हो जाती है।

एक रिसर्च में सामने आया कि जिन लोगों ने खाना खाने से पहले सेब का जूस पिया उन्हें ज़्यादा भूख लगी और उन्होंने उन लोगों के मुकाबले ज़्यादा खाया, जिन्होंने मात्र एक सेब खाने के बाद खाना खाया था। जूस को अपनी डेली लाइफ का हिस्सा बनाना ठीक नहीं है, लेकिन लोग यह सोचकर रोज़ाना उसे अपनी डाइट में इसलिए शामिल कर लेते हैं क्योंकि वह नैचरल है और हेल्दी होगा।