जेट के 1100 पायलट आज काम पर नहीं जाने का लिया गया फैसला

नई दिल्ली, एजेंसी : स्पाइस जेट ने कर्ज संकट से जूझ रही जेट एयरवेज के इंजीनियरों और पायलटों को नौकरियां ऑफर की हैं। लेकिन इसके अंतर्गत कंपनी ने जेट के कर्मचारियों के सामने उनकी मौजूदा सैलरी से 30-50 फीसदी कम सीटीसी पर नौकरी करने का प्रस्ताव रखा है। कुछ कर्मचारियों ने इसमें सहमति जताई है जबकि कुछ को उम्मीद है कि जेट का संकट दूर हो जाएगा। इस बीच जेट के 1100 पायलटों ने सोमवार से काम पर न जाने का फैसला किया है। सूत्रों ने न्यूज एजेंसी को बताया कि जेट के पायलटों के सामने वर्तमान सैलरी में 25-30त्न तक की कमी और इंजीनियर के सामने 50त्न तक की कमी के साथ नौकरी का प्रस्ताव रखा गया है।

कुछ समय पहले तक स्पाइस जेट समेत कुछ एयरलाइंस पायलट और इंजीनियरों को बेहतर पैकेज और बोनस की सुविधा के साथ नौकरी पर रखने के लिए तैयार थी।एविएशन से जुड़े सूत्रों ने बताया, काम बंद होने की आशंका को देखते हुए कुछ प्रोफेशनल्स तो कम सैलरी में भी काम करने के लिए तैयार हो गए हैं, मगर जेट की औसत सैलरी भी इंडस्ट्री के लेवल से ज्यादा है।रिपोर्ट के मुताबिक एक सीनियर एयरक्राफ्ट इंजीनियर ने स्पाइस जेट और एयर इंडिया में नौकरी के लिए आवेदन किया था। वहां उन्हें डेढ़ लाख रुपए से दो लाख रुपए प्रति महीना देने की बात कही गई, जबकि उनका वर्तमान सीटीसी चार लाख रुपए महीना है। स्पाइस जेट एग्क्यूजीटिव का कहना है कि हम कंपनी के स्ट्रक्चर के मुताबिक ही सैलरी ऑफर कर रहे हैं।एक इंजीनियर का कहना था, यह ऑफर बहुत ही कम है। कोई इसे केवल दबाव में ही स्वीकार कर सकता है।

जेट खरीदने की चल रही बात

हम तो इस उम्मीद में हैं कि कोई निवेशक जेट को खरीद ले तो हमारी सैलरी फिर से सुरक्षित हो जाए।जेट के एक सीनियर कमांडर ने बताया, पायलट भी ऐसी ही जगह नौकरी की तलाश कर रहे हैं, जहां सैलरी और जॉब की सिक्योरिटी हो। उनके ऊपर भी कर्ज के साथ कुछ आर्थिक जम्मेदारियां हैं। यही कारण है कि अधिकांश सीनियर पायलट ने जेट का साथ नहीं छोड़ा है। वे स्पाइस जेट, इंडिगो या एयरइंडिया में नौकरी करने में संकोच कर रहे हैं। वे मानते हैं कि वहां जाने से उनकी वरिष्ठता और वेतन पर असर पड़ेगा। वे 3-5 साल के बॉन्ड भी साइन नहीं करना चाहते।मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक दरअसल जेट एयरवेज बीते कुछ महीनों से आर्थिक संकट से गुजर रही है। कंपनी पर 8000 करोड़ रुपए कर्ज है। अधिकांश विमान मैदान में खड़े हैं। 15 अप्रैल तक अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों पर भी रोक लगी है। कंपनी मैनेजमेंट का कहना है कि हम इस स्थिति को सुलझाने के लिए प्रयासरत हैं